09 February, 2006

बाल कविताएँ

देल छे आए
बाबा आज देल छे आए,
चिज्जी पिज्जी कुछ ना लाए।
बाबा क्यों नहीं चिज्जी लाए,
इतनी देली छे क्यों आए।
कां है मेला बला खिलौना,
कलाकंद, लड्डू का दोना।
चूं चूं गाने वाली चिलिया,
चीं चीं करने वाली गुलिया।
चावल खाने वाली चुहिया,
चुनिया-मुनिया, मुन्ना भइया।
मेला मुन्ना, मेली गैया,
कां मेले मुन्ना की मैया।
बाबा तुम औ कां से आए,
आं आं चिज्जी क्यों ना लाए।
-श्रीधर पाठक
( 1860 )
एक बूँद
ज्यों निकल कर बादलों की गोद से
थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी
सोचने फिर फिर यही जी में लगी
हाय क्यों घर छोड़ कर मैं यों कढ़ी
मैं बचूँगी या मिलूँगी धूल में
चू पड़ूँगी या कमल के फूल में
बह गयी उस काल एक ऐसी हवा
वो समन्दर ओर आयी अनमनी
एक सुन्दर सीप का मुँह था खुला
वो उसी में जा गिरी मोती बनी
लोग यौं ही हैं झिझकते सोचते
जबकि उनको छोड़ना पड़ता है घर
किन्तु घर का छोड़ना अक्सर उन्हें
बूँद लौं कुछ और ही देता है कर !
-अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध`
(1865 - 1947)
लड्डू ले लो
ले लो दो आने के चार
लड्डू राज गिरे के यार
यह हैं धरती जैसे गोल
ढुलक पड़ेंगे गोल मटोल
इनके मीठे स्वादों में ही
बन आता है इनका मोल
दामों का मत करो विचार
ले लो दो आने के चार।
लोगे खूब मज़ा लायेंगे
ना लोगे तो ललचायेंगे
मुन्नी, लल्लू, अरुण, अशोक
हँसी खुशी से सब खायेंगे
इनमें बाबू जी का प्यार
ले लो दो आने के चार।
कुछ देरी से आया हूँ मैं
माल बना कर लाया हूँ मैं
मौसी की नज़रें इन पर हैं
फूफा पूँछ रहे क्या दर है
जल्द खरीदो लुटा बजार
ले लो दो आने के चार।
-माखनलाल चतुर्वेदी
(1889 - 1968)
तिल्ली सिंह
पहने धोती कुरता झिल्ली
गमछे से लटकाये किल्ली
कस कर अपनी घोड़ी लिल्ली
तिल्ली सिंह जा पहुँचे दिल्ली
पहले मिले शेख जी चिल्ली
उनकी बहुत उड़ाई खिल्ली
चिल्ली ने पाली थी बिल्ली
बिल्ली थी दुमकटी चिबिल्ली
उसने धर दबोच दी बिल्ली
मरी देख कर अपनी बिल्ली
गुस्से से झुँझलाया चिल्ली
लेकर लाठी एक गठिल्ली
उसे मारने दौड़ा चिल्ली
लाठी देख डर गया तिल्ली
तुरत हो गयी धोती ढिल्ली
कस कर झटपट घोड़ी लिल्ली
तिल्ली सिंह ने छोड़ी दिल्ली
हल्ला हुआ गली दर गल्ली
तिल्ली सिंह ने जीती दिल्ली!
-रामनरेश त्रिपाठी
(1889 - 9162)
घूम हाथी, झूम हाथी
घूम हाथी, झूम हाथी, घूम हाथी, झूम हाथी!
हाथी झूम झूम झूम!
हाथी घूम घूम घूम!!
राजा झूमें रानी झूमें, झूमें राजकुमार
घोड़े झूमें फौजें झूमें, झूमें सब दरबार
झूम झूम घूम हाथी, घूम झूम झूम हाथी!
हाथी झूम झूम झूम!
हाथी घूम घूम घूम!!
राज महल में बाँदी झूमे, पनघट पर पनिहारी
पीलवान का अंकुश झूमें सोने की अम्बारी
झूम झूम घूम हाथी, घूम झूम झूम हाथी!
हाथी झूम झूम झूम!
हाथी घूम घूम घूम!!
-विद्याभूषण 'विभु`
(1892 - 1965)
एक सवाल
आओ, पूछें एक सवाल
मेरे सिर में कितने बाल ?
कितने आसमान में तारे ?
बतलाओ या कह दो हारे
नदिया क्यों बहती दिन रात ?
चिड़ियाँ क्या करती हैं बात ?
क्यों कुत्ता बिल्ली पर धाए ?
बिल्ली क्यों चूहे को खाए ?
फूल कहाँ से पाते रंग ?
रहते क्यों न जीव सब संग ?
बादल क्यों बरसाते पानी ?
लड़के क्यों करते शैतानी ?
नानी की क्यों सिकुड़ी खाल ?
अजी, न ऐसा करो सवाल
यह सब ईश्वर की है माया
इसको कौन जान है पाया !
-ठाकुर श्रीनाथ सिंह
(1901 - 1996)
नटखट हम, हां नटखट हम !
नटखट हम हां नटखट हम,
करने निकले खटपट हम
आ गये लड़के आ गये हम,
बंदर देख लुभा गये हम
बंदर को बिचकावें हम,
बंदर दौड़ा भागे हम
बच गये लड़के बच गये हम,
नटखट हम हां नटखट हम !
बर्र का छत्ता पा गये हम,
बांस उठा कर आ गये हम
छत्ता लगे गिराने हम,
ऊधम लगे मचाने हम
छत्ता टूटा बर्र उड़े,
आ लड़कों पर टूट पड़े
झटपट हट कर छिप गये हम,
बच गये लड़के बच गये हम !
बिच्छू एक पकड़ लाये,
उसे छिपा कर ले आये
सबक जांचने भिड़े गुरू,
हमने नाटक किया शुरू
खोला बिच्छू चुपके से,
बैठे पीछे दुबके से
बच गये गुरु जी खिसके हम,
पिट गये लड़के बच गये हम !
बुढ़िया निकली पहुँचे हम,
लगे चिढ़ाने जम जम जम
बुढ़िया खीझे डरे न हम,
ऊधम करना करें न कम
बुढ़िया आई नाकों दम,
लगी पीटने धम धम धम
जान बचा कर भागे हम,
पिट गये लड़के बच गये हम!
-सभामोहन अवधिया 'स्वर्ण सहोदर`
(1902 - 1980)
यह कदम्ब का पेड़ !
यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे।
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे।।
ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली।
किसी तरह नीची हो जाती यह कदंब की डाली।।
तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं चुपके-चुपके आता।
उस नीची डाली से अम्मा ऊँचे पर चढ़ जाता।।
वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता।
अम्मा-अम्मा कह वंशी के स्वर में तुम्हे बुलाता।।
बहुत बुलाने पर भी माँ जब नहीं उतर कर आता।
माँ, तब माँ का हृदय तुम्हारा बहुत विकल हो जाता।।
तुम आँचल फैला कर अम्मां वहीं पेड़ के नीचे।
ईश्वर से कुछ विनती करतीं बैठी आँखें मीचे।।
तुम्हें ध्यान में लगी देख मैं धीरे-धीरे आता।
और तुम्हारे फैले आँचल के नीचे छिप जाता।।
तुम घबरा कर आँख खोलतीं, पर माँ खुश हो जाती।
जब अपने मुन्ना राजा को गोदी में ही पातीं।।
इसी तरह कुछ खेला करते हम-तुम धीरे-धीरे।
यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे।।
-सुभद्रा कुमारी चौहान
(1904 - 1948)
कबूतर
भोले-भाले बहुत कबूतर
मैंने पाले बहुत कबूतर
ढंग ढंग के बहुत कबूतर
रंग रंग के बहुत कबूतर
कुछ उजले कुछ लाल कबूतर
चलते छम छम चाल कबूतर
कुछ नीले बैंजनी कबूतर
पहने हैं पैंजनी कबूतर
करते मुझको प्यार कबूतर
करते बड़ा दुलार कबूतर
आ उंगली पर झूम कबूतर
लेते हैं मुंह चूम कबूतर
रखते रेशम बाल कबूतर
चलते रुनझुन चाल कबूतर
गुटर गुटर गूँ बोल कबूतर
देते मिश्री घोल कबूतर।
-सोहन लाल द्विवेदी
(1906 - 1988)
कहां रहेगी चिड़िया ?
आंधी आई जोर शोर से
डाली टूटी है झकोर से
उड़ा घोंसला बेचारी का
किससे अपनी बात कहेगी
अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी ?
घर में पेड़ कहाँ से लाएँ
कैसे यह घोंसला बनाएँ
कैसे फूटे अंडे जोड़ें
किससे यह सब बात कहेगी
अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी ?
-महादेवी वर्मा
(1907 - 1987)
चांद का कुर्ता
हठ कर बैठा चांद एक दिन, माता से यह बोला
सिलवा दो मा मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला
सन सन चलती हवा रात भर जाड़े से मरता हूँ
ठिठुर ठिठुर कर किसी तरह यात्रा पूरी करता हूँ
आसमान का सफर और यह मौसम है जाड़े का
न हो अगर तो ला दो कुर्ता ही को भाड़े का
बच्चे की सुन बात, कहा माता ने 'अरे सलोने`
कुशल करे भगवान, लगे मत तुझको जादू टोने
जाड़े की तो बात ठीक है, पर मैं तो डरती हूँ
एक नाप में कभी नहीं तुझको देखा करती हूँ
कभी एक अंगुल भर चौड़ा, कभी एक फुट मोटा
बड़ा किसी दिन हो जाता है, और किसी दिन छोटा
घटता-बढ़ता रोज, किसी दिन ऐसा भी करता है
नहीं किसी की भी आँखों को दिखलाई पड़ता है
अब तू ही ये बता, नाप तेरी किस रोज लिवायें
सी दे एक झिंगोला जो हर रोज बदन में आये!
-रामधारी सिंह 'दिनकर`
(1908 - 1974)
बाबा जी की छींक
घर - भर को चौंकाने वाली
बाबा जी की छींक निराली।।
लगता यहीं कहीं बम फूटा
या कि तोप से गोला छूटा
या छूटी बन्दूक दुनाली
बाबा जी की छींक निराली।।
सोया बच्चा जगा चौंक कर
झबरा कुत्ता भगा भौंक कर
झन्ना उठी कांस की थाली
बाबा जी की छींक निराली।।
दिन में दिल दहलाने वाली
गहरी नींद हटाने वाली
बाबा जी की छींक निराली।।
कभी कभी तो हम डर जाते
भग कर बिस्तर में छिप जाते
हँस कर कभी बजाते ताली
बाबा जी की छींक निराली।।
-रमापति शुक्ल
(1909)
निम्मी का परिवार
निम्मी का परिवार निराला
कभी न होता गड़बड़झाला
सबका अपना काम बँटा है
कूड़ करकट अलग छंटा है।
झाड़ू देती गिल्लो मिल्लो
चूल्हा चौका करती बिल्लो
टीपू टामी देते पहरा
नहीं एक भी अंधा बहरा।
चंचल चुहिया चाय बनाती
चिड़िया नल से पानी लाती
निम्मी जब रेडियो बजाती
मैना मीठे बोल सुनाती।

-कन्हैया लाल 'मत्त`
(1911 - -2003)
सैर सपाटा
कलकत्ते से दमदम आए
बाबू जी के हमदम आए
हम वर्षा में झमझम आए
बर्फी, पेड़े, चमचम लाए।
खाते पीते पहुँचे पटना
पूछो मत पटना की घटना
पथ पर गुब्बारे का फटना
तांगे से बेलाग उलटना।
पटना से हम पहुँचे रांची
रांची में मन मीरा नाची
सबने अपनी किस्मत जांची
देश देश की पोथी बांची।
रांची से आए हम टाटा
सौ सौ मन का लो काटा
मिला नहीं जब चावल आटा
भूल गए हम सैर सपाटा !


-आरसी प्रसाद सिंह
(1911 - 1996)
साल शुरू हो, साल खत्म हो !

साल शुरू हो दूध दही से
साल खत्म हो शक्कर घी से
पिपरमैंट, बिस्कुट मिसरी से
रहें लबालव दोनों खीसे
मस्त रहें सड़कों पर खेलें
ऊधम करें मचाएँ हल्ला
रहें सुखी भीतर से जी से।
सांझ, रात, दोपहर, सवेरा
सबमें हो मस्ती का डेरा
कातें सूत बनाएँ कपड़े
दुनिया में क्यों डरें किसी से
पंछी गीत सुनाये हमको
बादल बिजली भाये हमको
करें दोस्ती पेड़ फूल से
लहर लहर से नदी नदी से
आगे पीछे ऊपर नीचे
रहें हंसी की रेखा खींचे
पास पड़ौस गाँव घर बस्ती
प्यार ढेर भर करें सभी से।
-भवानी प्रसाद मिश्र
(1913 - 1985)
बादल आया
बादल आया झूम के,
पर्वत चोटी चूम के।
इन्द्रधनुष का पहने हार,
ले आया वर्षा की धार।
मेंढ़क राजा मगन हुए,
झींगुर के सुख सपन हुए।
कजरी की धुन आती है,
नन्हीं चिड़िया गाती है।

गुड़िया की परेशानी
रोती रोती गुड़िया आई
किससे अपनी बात कहूँ
चूँ चूँ ने आफत कर डाली
ऐसे घर में कहाँ रहूँ?
कुतरी चुनरी गोटे वाली
लाल रंग की प्यारी प्यारी
डाल नहीं घूँघट पाऊँगी
दूल्हे संग कैसे जाऊँगी
मर जाऊँगी लाज की मारी
कैसे अब ससुराल रहूँ?
-शकुंतला सिरोठिया
(1915 - 2005)

बढ़े चलो
वीर तुम बढ़े चलो
धीर तुम बढ़े चलो
साथ में ध्वजा रहे
बाल दल सजा रहे
ध्वज कभी झुके नहीं
दल कभी रुके नहीं।
सामने पहाड़ हो
सिंह की दहाड़ हो
तुम निडर,हटो नहीं
तुम निडर,डटो नहीं
वीर तुम बढ़े चलो
धीर तुम बढ़े चलो
प्रात हो कि रात हो
संग हो न साथ हो
सूर्य से बढ़े चलो
चन्द्र से बढ़े चलो
वीर तुम बढ़े चलो
धीर तुम बढ़े चलो
-द्वारिकाप्रसाद माहेश्वरी
(1916 - -1998)

जादूगर अलबेला
छू काली कलकत्ते वाली
तेरा वचन न जाए खाली
मैं हूँ जादूगर अलबेला
असली भानमती का चेला
सीधा बंगाले से आया
जहाँ जहाँ जादू दिखलाया
सबसे नामवरी है पाई
उंगली दाँतों तले दबाई
जिसने देखा, खेल निराला
जम कर खूब बजाई ताली
चाहूँ तिल का ताड़ बना दूँ
रुपयों का अंबार लगा दूँ
अगर कहो तो आसमान पर
तुमको धरती से पहुंचा दूँ
ऐसे ऐसे मंतर जानूँ
दुख संकंट छू मंतर कर दूँ
बने कबूतर, बकरी काली।
-चन्द्रपाल सिंह यादव 'मयंक`
(1925 - 2000)



पैसा पास होता
पैसा पास होता तो चार चने लाते
चार में से एक चना तोते को खिलाते
तोते को खिलाते, तो टाँव-टाँव गाता,
टाँव-टाँव गाता तो बड़ा मज़ा आता।
पैसा पास होता तो चार चने लाते,
चार में से एक चना घोड़े को खिलाते
घोड़े को खिलाते, तो पीठ पर बिठाता
पीठ पर बिठाता तो बड़ा मज़ा आता।
पैसा पास होता तो चार चने लाते
चार में से एक चना चूहे को खिलाते
चूहे को खिलाते तो दाँत टूट जाता
दाँत टूट जाता तो बड़ा मज़ा आता।
-निरंकार देव 'सेवक`
(1919 - 1994)
राजा-रानी
एक था राजा
एक थी रानी
दोनों करते थे
मन मानी
राजा का तो
पेट बड़ा था
रानी का भी
पेट बड़ा था
खूब वे खाते थे
छक छक कर
फिर सो जाते थे
थक थक कर
काम यही था
बक-बक, बक-बक
नौकर से बस
झक-झक, झक-झक।
-जयप्रकाश भारती
(1936 - 2005)
बतूता का जूता
इब्नबतूता पहन के जूता
निकल पड़े तूफान में
थोड़ी हवा नाक में घुस गई
घुस गई थोड़ी कान में
कभी नाक को, कभी कान को
मलते इब्नबतूता
इसी बीच में निकल पड़ा
उनके पैरों का जूता
उड़ते उड़ते जूता उनका
जा पहुँचा जापान में
इब्नबतूता खड़े रह गये
मोची की दुकान में।
-सर्वेश्वर दयाल सक्सेना
(1927 - 1983)
बाज़ीगर
बाज़ीगर ने खेल दिखाया
सबका मन बहलाया
डमरू बजा बजाकर उसने
पहले भीड़ जुटाई
गुड्डा कभी दिखाकर गुड़िया
बातें खूब बनाई
करतब दिखलाने से पहले
सबको खूब रिझाया।
रुपया एक लिया हाथों में
फौरन दो कर डाले
दो के चार बनाए उसने
फिर अनगिनत उछाले
रुपये इतने देखे जब, तब
अपना मन ललचाया।
खाली बर्तन लिया हाथ में
उलटा कर दिखलाया
फिर जाने क्या मंतर मारा
जल उसमें छलकाया
छींटे मार भिगोया सबको
ऐसी उसकी माया।
-रमेश कौशिक
(1930)
कोई लाके मुझे दे
कुछ रंग भरे फूल
कुछ खट्टे-मीठे फल
थोड़ी बांसुरी की धुन
थोड़ा जमुना का जल
कोई लाके मुझे दे
एक सोना जड़ा दिन
एक रूपों भरी रात
एक फूलों भरा गीत
एक गीतों भरी बात
कोई लाके मुझे दे
एक छाता छाँव का
एक धूप की घड़ी
एक बादलों का कोट
एक दूब की घड़ी
कोई लाके मुझे दे
एक छुट्टी वाला दिन
एक अच्छी सी किताब
एक मीठा-सा सवाल
एक नन्हा-सा जवाब
कोई लाके मुझे दे
-दामोदर अग्रवाल
(1932)


हल्लम हल्लम हाथी
हल्लम हल्लम हौदा हाथी चल्लम चल्लम
हम बैठे हाथी पर,हाथी हल्लम हल्लम
लम्बी लम्बी सूँड़ फटा फट फट्टर फट्टर
लम्बे लम्बे दाँत खटा खट खट्टर खट्टर
भारी भारी सूँड़ मटकता झम्मम झम्मम
पर्वत जैसी थुलथुली थल्लम थल्लम
हल्लर हल्लर देह हिले जब हाथी चल्लम
खम्भे जैसे पांव धमा धम धम्मम धम्मम
हाथी जैसी नहीं सवारी अग्गड़ बग्गड़
पीलवान पुच्छन बैठा है बांधे पग्गड़
बैठे बच्चे पीठ सभी हम डग्गम डग्गम
-डॉ. श्री प्रसाद
(1932)

कंतक थैया,घुनू मनइयाँ
कंतक थैया, घुनूँ मनइयाँ
चंदा भागे पइयाँ पइयाँ
यह चंदा हलवाह है
नीले नीले खेत में
बिल्कुल सैत मेत में
रत्नों भरे खेत में
किधर भागता लइयाँ पइयाँ
अंधकार है घेरता
टेढ़ी आँखें हेरता
चांद नहीं मुँह फेरता
राकेट को है टेरता
मुन्नू को लूँगा मैं दइयाँ
मिट्टी के बादलों के राजा
ताली तेरी बुढ़िया बाजा
छोटा छोटा छोकरा
सिर पर रक्खे टोकरा
बने डोकरा करुँ बलइयाँ
कंतक थैया घुनूँ मनइयाँ
-श्रीकृष्ण चंद्र तिवारी 'राष्ट्रबंधु`
(1933)
सच्चा दानी
पेड़ किसी से नहीं पूछता
कहो, कहाँ से आए ?
वह तो बस कर देता छाया
चाहे जो सुस्ताए!
खिलते समय न फूल सोचता
कौन उसे पाएगा?
उसकी खुशबू अपनी सांसों में
भर इतराएगा!
बादल से जब सहा न जाता
अपने जल का संचय
बस, वह बरस-बरस भर देता
नदियाँ, नहर, जलाशय!
जो स्वभाव से ही दाता है
उन्हें न कोई भ्रम है
भेदभाव करते हैं वे ही
जिनकी पूजा कम है।
-बालस्वरुप राही
(1936)

धूप खिली है!
मम्मी देखो सूरज निकला
कई दिनों में धूप खिली है
घुमड़-घुमड़ कर काले बादल
बारिश कर जाते थे झर-झर
हम कोनों में छिप जाते थे
आंधी बिजली से डर-डर कर
जाने कैसे आज अचानक
थोड़ी राहत हमें मिली है।
इक्का दुक्का बादल अब भी
घूम रहे हैं आसमान में
कभी अचानक मिल जाते हैं
बातें करते कान-कान में
सैर सपाटा करने को फिर
चिड़ियों की टोली निकली है।
मम्मी, पापा जी से कह दो
संभल-संभल कर जाएं दफ्तर
कपड़े गंदे हो सकते हैं
छींटे आ जाते हैं उड़कर
नीली पैंट न हरगिज़ पहनें
कुछ दिन पहले नई सिली है।
ऱ्योगेन्द्र कुमार लल्ला
(1937)
नए साल में

ताजे सुंदर फूल खिलेंगे
नए साल में
नए-पुराने मित्र मिलेंगे
नए साल में
भैया-दीदी खूब पढ़ेंगे
कोई कितनी करे शरारत
नहीं लड़ेंगे
नए साल में
रंग खुशी का चोखा होगा
नए साल में
हर त्यौहार अनोखा होगा
स्वस्थ रहेंगी प्यारी दादी
नए साल में
गुड़िया की भी होगी शादी
नए साल में
अच्छे अच्छे काम करेंगे
नए साल में
सीधे सच्चे नहीं डरेंगे
नए साल में
भैया को उग आए दाढ़ी
नए साल में
छुक छुक चले हमारी गाड़ी
नए साल में
-शेर जंग गर्ग
(1937)
ऊँट की सवारी है
मेले में आई है
हाथी पे चढ़ना तो
हाथी भी आया
जल्दी करो, जल्दी करो
आज तुम पढ़ाई
मेले से पहले है
थोड़ी चढ़ाई
थोड़ी चढ़ाई
बंदर का नाच
डुग डुग डुग, डुग डुग डुग
भालू का नाच
बड़े बड़े झूले हैं
बड़े बड़े खेल
चलती है एक वहाँ
छोटी सी रेल
सुनो सुनो पड़ती है
सीटी सुनाई।
-प्रयाग शुक्ल
(1940)
अब तो खाओ
ताक धिनाधिन
ताल मिला लो
हँसते जाओ
गोरे-गोरे
थाल-कटोरे
लो चमकाओ।
चकला-बेलन
मिलकर बेले
फूल फुलकिया
अम्मां तेरी
खूब फुलाओ।
भैया आओ
मीठी-मीठी
अम्मां को भी
यहां बुलाओ
प्यारी अम्मां
सबने खाया
अब तो खाओ।
-देवेन्द्र कुमार
(1940)
लाला जी की तोंद
लाला जी बड़ी तोंद है
घंटाघर की घड़ी तोंद है
लाला जी से मिलो बाद में
उनसे पहले खड़ी तोंद है
कुरते में घुसने से पहले
रोज लड़ाई लड़ी तोंद है।
बस में चढ़ते और उतरते
दरवाज़े में अड़ी तोंद है।
किसी अंगूठी में ज्यों हीरा
लाला जी में जड़ी तोंद है।
चूरन के पर्वत के नीचे
लाला जी की बड़ी तोंद है।
-सूर्यभानु गुप्त
(1940)
पेड़
टिंकू से यह बोला पेड़
टिंकू मुझको अधिक न छेड़
शायद तुझ पर काम नहीं
पर मुझको आराम नहीं
देख अभी नभ में जाना है
बादल से पानी लाना है
जीवों को वायु देनी है
मिट्टी को आयु देनी है
ईंधन देना है बुढ़िया को
मीठे फल देना गुड़िया को
अभी बनाना ऐसा डेरा
पक्षी जिसमें करें बसेरा
इंसानों के रोग हरूँगा
और बहुत से काम करूँगा
टिंकू कर मत पीछा मेरा
मैं धरती का पूत कमेरा
-अश्व घोष
(1941)
बजे नगाड़े बरसे मोती
आसमान में बजे नगाड़े
या बुढ़िया
दलती सिंघाड़े!
या फिर
भूरे-काले बादल
बड़े जोर से
पढ़े पहाड़े!
झर-झर बूँदें
बरसे मोती
बुढ़िया अपनी
चकिया धोती
या फिर
कोई छोटी बदली
फज़ा में
पिट कर है रोती!
-पद्मा चौगांवकर
(1942)
चरखा बोले चर्रक चूँ
चरखा बोले चर्रक चूँ
चर्रक चूँ भई चर्रक चूँ

इसे चलाया गांधी ने
धूम मचादी खादी ने
अब न रहे गांधी बाबा
दे कर मन्तर हो गए छू।
सभी दिखाते अपने हाथ
इक दूजे को देते मात
सर सर सर सर सूत कते
तकली नाचे ढुम्मक ढूँ।
सूत बिका बाजार में
बंधे सभी इक तार में
दूर दूर तक जा पहुँचा
बम्बई, सूरत, टिम्बकटू।
-इन्दिरा गौड़
(1943)
हम गुलाब के फूल
बाहर-अंदर, कितने सुंदर
हम गुलाब के फूल!
जब देखो हँसते मुसकाते
आँगन बगिया को महकाते
हँसमुख रहते, कभी न कहते
सहते रहते शूल
हम गुलाब के फूल!
रूप हमारे रंग-बिरंगे
तन से मन से ताजे चंगे
तोड़ा जाए, फेंका जाए
हमको नहीं कबूल
हम गुलाब के फूल!
उपयोगी हैं तरह तरह से,
खुशियों का संदेश सुबह से
लगा लिया करते माथे पर
हम धरती की धूल
हम गुलाब के फूल!
-राजा चौरसिया
(1945)
सूरज सहमा रहता !
काँप रही है थर थर काकी
जैसे हिलें हवा में पत्ते
गर्मी को धकिया जाड़े ने
बंद कर दिया, तुम्हे पता है?
और न जाने कहाँ छुपाकर
चाबी को रख दिया पता है
ढूँढ़ रहे पगलाए सारे
उलट पुलट कर कपड़े-लत्ते!
घर से नहीं निकलने देती
करे ठाठ से धींगा मुश्ती
सूरज भी सहमा रहता है
लड़ता नहीं लपक कर कुश्ती
मेरी रेल ठीक होती तो
इसे छोड़ आता कलकत्ते।
दिन में हवा रात में पाला
कोहरा हटता नहीं हटाए
सारे रस्ते बंद पड़े हैं
गर्मी कहो कहाँ से आए
जला अंगीठी कोशिश करते
जुम्मन काका, चाचा फत्ते।
-कृष्ण शलभ
(1945)

झटपट खाओ
सूरज ने भेजा धरती पर
अपनी बेटी किरण धूप को
साथ खेलते धरती ने भी
उगा दिया झट हरी दूब को
दूब उगी तो देख गाय ने
हिला हिला मुँह उसको खाया
उसको खा कर खूब ढ़ेर सा
दूध थनों में उसके आया
दूध मिला तो दादी माँ ने
जामन दे कर उसे जमाया
दही जमा तो माँ ने उसको
खूब बिलोकर मक्खन पाया
देखा मक्खन तो मन बोला
झटपट भैया इसको खाओ
ताक रहे क्यों खड़े देर से
मत इसको इतना पिघलाओ
पर बोली माँ इसको खा कर
हाथी से तगड़े हो जाओ
मैं बोला माँ लेकिन पहले
सूँड़ कहीं से तो ले आओ।
-दिविक रमेश
१ध्४१९४६१ध्२

टिन्नी जी!
टिन्नी जी! ओ टिन्नी जी
ये लो एक चवन्नी जी
बज्जी से प्यारा-प्यारा
लाना छोटा गुब्बारा
ऊपर उसे उड़ाएँगे
आसमान पहुँचाएँगे !
टिन्नी जी! ओ टिन्नी जी
ये लो एक चवन्नी जी
बज्जी से ताजी-ताजी
लाना पालक की भाजी
घर पर उसे पकाएँगे
साथ बैठ कर खाएँगे !
टिन्नी जी! ओ टिन्नी जी
ये लो एक चवन्नी जी
जल्दी से बज्जी जाना
एक डुगडुगी ले आना
डुगडुग उसे बजाएँगे
मिल कर गाने गाएँगे!
-रमेश तैलंग
१ध्४१९४६१ध्२
पापा, तंग करता है भैया
पापा, तंग करता है भैया
कार तोड़ दी इसने मेरी
फेंक दिए दो पहिए दूर
हार्न टूट कर अलग पड़ा है
बत्ती भी है चकनाचूर
कहता-पापा से मत कहना
ले लो मुझसे एक रुपैया
पापा, तंग करता है भैया ।
लकड़ी का था मेरा हाथी
इसने दोनों कान उखाड़े
हिरन बनाए थे मैंने दो
कापी से वो पन्ने फाड़े
तोड़ फोड़ डाली, पापाजी
मेले से लाई थी गैया
पापा, तंग करता है भैया।
इसने ले ली गुड़िया मेरी
ठुमक-ठुमक जो पीती पानी
एक नहीं, करता रहता है
हर दम ऐसी ही मनमानी
मेरा गुड्डा चुरा लिया है
कहता-ले लो चोर सिपैया
पापा, तंग करता है भैया।
-प्रकाश मनु
(1950)


दादाजी की चोटी
दादा जी की चोटी
कितनी लम्बी-मोटी
यह घुटनों तक जाती है
नागिन सी लहराती है
फिर भी कहती रहती है
मैं हूँ कितनी छोटी !
इसका है तेली से मेल
यह पीती है नौ मन तेल
मगर नहीं बुझती है प्यास
इसकी नीयत खोटी
दादा जी की चोटी !
-शिव गौड़
(1955)
खिचड़ी के यार
चिड़िया ले कर आई चावल
और कबूतर दाल
बंदर मामा बैठे-बैठे
बजा रहे थे गाल
चिड़िया और कबूतर बोले-
मामा, लाओ घी
खिचड़ी में हिस्सा चाहो तो
ढूँढ़ो कहीं दही
पहले से हमने ला रक्खे
पापड़ और अचार
यही चार तो होते हैं जी
इस खिचड़ी के यार।
-उषा यादव
(1948)
बंदर-मस्त कलंदर
बंदर-बंदर
मस्त कलंदर
क्यों बैठे हो
डाली पर ?
'चलो उतरकर
आओ अंदर
काँप रहे हो
तुम थर थर`
बंदर बोला-
अरे मुछंदर
कभी न मैं
आऊँ अंदर
डम-डम-डमडम
डमरू ले कर
मुझे नचाओगे
दिन भर।
-सूर्य कुमार पांडेय
(1956)
एक हवा!
एक हवा थी हल्की-हल्की
एक हवा थी भारी
एक हवा चुपके से आई
एक ने धूल बुहारी
एक हवा थी ठंडी-ठंडी
एक थी गरम भभूका
एक हवा खुशियां ले आई
एक दुखों का झोंका
एक हवा थी खुशबू वाली
आई आ कर चली गई
एक हवा है सच्ची-सादी
सांस सांस में बसी हुई।
-श्याम सुशील
(1957)

1 comment:

vandana said...

इतना शानदार संग्रह !!!
वाकई आप साहित्य सेवा में संलग्न हैं... आभार
http://vandana-nanhepakhi.blogspot.com/